Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

Lines of day

Lines of day
Rakh hausala wo manzar bhi ayega.
Pyausa ke pass chal kar samundar bhi ayega
Na bikhar it na ,na Tut Jana.hausala rakh samay Ana hai tera.
Thak kar na baith.Manzil ke musafir.kali
Rat hai to kya savera bhi ayega
Dhalta suraj le jayega khamiya Teri.ugata suraj dega jindagi sunehari
Rakh hausala wo manzar bhi ayega.
Manzil bhi milegi aur jitane ne ka maza bhi ayega….
Sampada k

1 Like · 128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंखों में तिरी जाना...
आंखों में तिरी जाना...
अरशद रसूल बदायूंनी
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
Vishal babu (vishu)
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
Er. Sanjay Shrivastava
साक्षर महिला
साक्षर महिला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐अज्ञात के प्रति-15💐
💐अज्ञात के प्रति-15💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
Phool gufran
" कविता और प्रियतमा
DrLakshman Jha Parimal
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
दुष्यन्त 'बाबा'
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
खुद के करीब
खुद के करीब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अदम गोंडवी
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#जवाब जिंदगी का#
#जवाब जिंदगी का#
Ram Babu Mandal
लड़को की समस्या को व्यक्त किया गया है। समाज में यह प्रचलन है
लड़को की समस्या को व्यक्त किया गया है। समाज में यह प्रचलन है
पूर्वार्थ
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
gurudeenverma198
मरना कोई नहीं चाहता पर मर जाना पड़ता है
मरना कोई नहीं चाहता पर मर जाना पड़ता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
*** हमसफ़र....!!! ***
*** हमसफ़र....!!! ***
VEDANTA PATEL
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
भूमि दिवस
भूमि दिवस
SATPAL CHAUHAN
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2552.*पूर्णिका**कामयाबी का स्वाद चखो*
2552.*पूर्णिका**कामयाबी का स्वाद चखो*
Dr.Khedu Bharti
Loading...