Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

#justareminderekabodhbalak

#justareminderekabodhbalak
The night is pause to the next day not an end to the day It says a lot to take rest and rejuvenate and move on for the new goals rethink revive refresh a new.

1 Like · 103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
दास्तां
दास्तां
umesh mehra
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कंगारु हूँ
कंगारु हूँ
राकेश कुमार राठौर
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
Tarun Prasad
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एक हमदर्द थी वो.........
एक हमदर्द थी वो.........
Aditya Prakash
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
"एक भगोड़ा"
*Author प्रणय प्रभात*
ये किस धर्म के लोग हैं
ये किस धर्म के लोग हैं
gurudeenverma198
हार कर भी जो न हारे
हार कर भी जो न हारे
AMRESH KUMAR VERMA
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची  हैं उड़ाने,
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची हैं उड़ाने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
चांद का झूला
चांद का झूला
Surinder blackpen
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
#हँसी
#हँसी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
*अंजनी के लाल*
*अंजनी के लाल*
Shashi kala vyas
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐अज्ञात के प्रति-148💐
💐अज्ञात के प्रति-148💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
डॉ प्रवीण ठाकुर
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...