Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr

Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
maine ,mana tujhe mera humsafer
nahi pata mujhe kya hoga afasana iska
kah do to maan lu fasana iska
na jaane kya baat hai tujhme
kheechi chali aati ore
man se man ka milan to sambhav
nahi sambhav tera mera milan
jeevan k is chor pe shaanshon ke jor pe…

Anusri Dubey

629 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
फितरत
फितरत
Sukoon
तू भी इसां कहलाएगा
तू भी इसां कहलाएगा
Dinesh Kumar Gangwar
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
पिता' शब्द है जीवन दर्शन,माँ जीवन का सार,
पिता' शब्द है जीवन दर्शन,माँ जीवन का सार,
Rituraj shivem verma
🌸 सभ्य समाज🌸
🌸 सभ्य समाज🌸
पूर्वार्थ
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
उनकी आंखो मे बात अलग है
उनकी आंखो मे बात अलग है
Vansh Agarwal
जो ख़ुद आरक्षण के बूते सत्ता के मज़े लूट रहा है, वो इसे काहे ख
जो ख़ुद आरक्षण के बूते सत्ता के मज़े लूट रहा है, वो इसे काहे ख
*प्रणय प्रभात*
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
स्वार्थी आदमी
स्वार्थी आदमी
अनिल "आदर्श"
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
रमेशराज के दो मुक्तक
रमेशराज के दो मुक्तक
कवि रमेशराज
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सिलसिले
सिलसिले
Dr. Kishan tandon kranti
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
मेरी प्रेरणा
मेरी प्रेरणा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विनय
विनय
Kanchan Khanna
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
Dr MusafiR BaithA
मैं फकीर ही सही हूं
मैं फकीर ही सही हूं
Umender kumar
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
Loading...