Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2017 · 1 min read

II करीबी कितनी II

दो लाइने लिख कर,

सभी को जांच लेता हूं l

किसमें कसर कितनी,

वो भी मैं भाप लेता हूं l

करता नहीं शिकवा,

कभी जमाने से लेकिन l

उससे करीबी कितनी,

किसकी नाप लेता हूं l

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Language: Hindi
284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
Ranjeet kumar patre
मायका वर्सेज ससुराल
मायका वर्सेज ससुराल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
"संयोग"
Dr. Kishan tandon kranti
SADGURU IS TRUE GUIDE…
SADGURU IS TRUE GUIDE…
Awadhesh Kumar Singh
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
■ ज्वलंत सवाल
■ ज्वलंत सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
Johnny Ahmed 'क़ैस'
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
सत्य कुमार प्रेमी
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
नवगीत : मौन
नवगीत : मौन
Sushila joshi
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
Indu Singh
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
याद आते हैं
याद आते हैं
Juhi Grover
एक हमारे मन के भीतर
एक हमारे मन के भीतर
Suryakant Dwivedi
Loading...