Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

I am a little boy

Iam a little boy 😃😀
No joker I am too long joy 😊
Sab mujko khete h my
I don’t hi
Tabi nhoi khata hi khana
Kirpa kr ke koi bachana
Raste me rail thi
Rail me the passenger. Ooooooooooo
Rail ruki jab station per
Muje achche lkte h Avengers.

Language: English
2 Likes · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Mukar jate ho , apne wade se
Mukar jate ho , apne wade se
Sakshi Tripathi
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
पल भर कि मुलाकात
पल भर कि मुलाकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
हद
हद
Ajay Mishra
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
टूट कर भी
टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
" जुदाई "
Aarti sirsat
■ सरोकार-
■ सरोकार-
*Author प्रणय प्रभात*
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारियों के लिए जगह
नारियों के लिए जगह
Dr. Kishan tandon kranti
हमें याद आता  है वह मंज़र  जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
हमें याद आता है वह मंज़र जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
DrLakshman Jha Parimal
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
Loading...