Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

How do you want to be loved?

How do you want to be loved?

I want a love ,That’s chaste but visceral;
Intransigent but incessant.

I don’t want to be,A passing fancy;
Or a gush of wind,That’s gone as soon as it comes.
I want to be held,With softness like that of flowers;
And I want to be held,With valour like that of mountains.

I’m not looking for something to fix me,But something to smooth out the edges.Not something to fill the void,But something to catch the overflow.

I’m not mad .I just want a love,
That’s wild and outrageous;Simple and ageless;
All at the same time.

101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
Rj Anand Prajapati
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
Your Secret Admirer
Your Secret Admirer
Vedha Singh
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
"अपेक्षाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
Rituraj shivem verma
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
राख देह की पांव पसारे
राख देह की पांव पसारे
Suryakant Dwivedi
हे मानव! प्रकृति
हे मानव! प्रकृति
साहित्य गौरव
Loading...