Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

Hello Sun!

Hello Sun ! Hello Sun!
Early morning wake up the sun,
Scatter the light on the earth,
Destroy all the scary night.

Hello Sun! Hello Sun!
Come in the sky and shine,
Fill colours on the darkness earth,
Open eyes to see the beautiful sight.

Written by-
✍🏼 Buddha Prakash,
Maudaha Hamirpur (U.P.)

Language: English
1 Like · 477 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
हथियार बदलने होंगे
हथियार बदलने होंगे
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
मिसाल रेशमा
मिसाल रेशमा
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम
राम
Suraj Mehra
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
जब ये ख्वाहिशें बढ़ गई।
जब ये ख्वाहिशें बढ़ गई।
Taj Mohammad
फिरौती
फिरौती
Shyam Sundar Subramanian
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
"नमक"
*Author प्रणय प्रभात*
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Sakshi Tripathi
मां के आंचल में
मां के आंचल में
Satish Srijan
माँ ( कुंडलिया )*
माँ ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नारी- स्वरूप
नारी- स्वरूप
Buddha Prakash
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
Loading...