Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

Har subha uthti hai ummid ki kiran

Har subha uthti hai ummid ki kiran
sham hote hi tham kyu jati hai

Mai ghadi ko rokne ki kosish mai hu
Par hath se fisal kyu jati hai………

Deepak saral

1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छोटे गाँव का लड़का था मैं
छोटे गाँव का लड़का था मैं
The_dk_poetry
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
Ravi Prakash
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Now we have to introspect how expensive it was to change the
Now we have to introspect how expensive it was to change the
DrLakshman Jha Parimal
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
ज़ख्म पर ज़ख्म अनगिनत दे गया
ज़ख्म पर ज़ख्म अनगिनत दे गया
Ramji Tiwari
दुनिया  के सब रहस्यों के पार है पिता
दुनिया के सब रहस्यों के पार है पिता
पूर्वार्थ
आपस की दूरी
आपस की दूरी
Paras Nath Jha
3025.*पूर्णिका*
3025.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीत कर तुमसे
जीत कर तुमसे
Dr fauzia Naseem shad
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
प्रेम की नाव
प्रेम की नाव
Dr.Priya Soni Khare
आ गया मौसम सुहाना
आ गया मौसम सुहाना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
Inspiring Poem
Inspiring Poem
Saraswati Bajpai
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
Rj Anand Prajapati
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
......?
......?
शेखर सिंह
..
..
*प्रणय प्रभात*
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
Loading...