Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

Few incomplete wishes💔

Just wanna to hug you tightly for long time as long I can
And cry with u for many hours
Tell the whole story what happens in your absence
Explaining love b/w as.. how much I love you.. and dying for you inside
My eyes and ears are waiting to see you and listen your sweet voice with high pitch frequency
Wanna to wipe your tear and kiss on your little hands simultaneously
Can’t explain
How many day and nights these eyes are wiping and looking for you
Your that stupid games,
Which make me laugh on you and you show anger, and convincing you
And hold your soft fingers and
Put your head on my lap and play with your hair , and smell the fragrance
When eyes look your things it hurts so much and breaks my heart..
And these becomes my incomplete wishes.

Language: English
50 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
"जिन्हें तैरना नहीं आता
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
Anil chobisa
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
किराएदार
किराएदार
Satish Srijan
संत एकनाथ महाराज
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
seema varma
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
*पुरानी वाली अलमारी (लघुकथा)*
*पुरानी वाली अलमारी (लघुकथा)*
Ravi Prakash
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
💐अज्ञात के प्रति-13💐
💐अज्ञात के प्रति-13💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
कवि दीपक बवेजा
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
'अशांत' शेखर
रिश्ते
रिश्ते
Shutisha Rajput
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
Er Sanjay Shrivastava
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तुम अगर कांटे बोओऐ
तुम अगर कांटे बोओऐ
shabina. Naaz
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
पूर्वार्थ
प्रीति के दोहे, भाग-1
प्रीति के दोहे, भाग-1
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
होली औऱ ससुराल
होली औऱ ससुराल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
Dr fauzia Naseem shad
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
2282.पूर्णिका
2282.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...