Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

#drarunkumarshastriblogger

#drarunkumarshastriblogger
भूल जाना और भुला देना दोनों का अन्तर समझ लेना एक अ_ प्रयास कर्म है और दूसरा स_ प्रयास कर्म – अ_ प्रयास कर्म प्रारब्ध नहीं बनता और स_ प्रयास कर्म जन्मों जनम पीछा नहीं छोड़ता, ये समझ लेना || दोनों ही नित्य हैं शाश्वत हैं कोई विरला ही इनसे पार होता है| जीवन जीना सभी को कहाँ आता है, असंख्य तो मात्र श्वास लेते और छोड़ते हैं, श्वास का संवहन सीख पाना – कोई विरला ही कर पाता है- विचार किजिये, कोई कोई इसके पार हो पाता है ||

1 Like · 254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
Ramswaroop Dinkar
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
*Eternal Puzzle*
*Eternal Puzzle*
Poonam Matia
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
Kanchan Khanna
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
Kishore Nigam
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
Neelam Sharma
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Chahat
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"अनाज"
Dr. Kishan tandon kranti
हाय अल्ला
हाय अल्ला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
बड़े हो गए अब बेचारे नहीं।
बड़े हो गए अब बेचारे नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
■
■ "हेल" में जाएं या "वेल" में। उनकी मर्ज़ी।।
*प्रणय प्रभात*
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
Loading...