Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

#drarunkumarshastriblogger

#drarunkumarshastriblogger

भूल जाना और भुला देना दोनों का अन्तर समझ लेना एक अ प्रयास कर्म है और दूसरा स प्रयास कर्म – अ प्रयास कर्म प्रारब्ध नहीं बनता और स प्रयास कर्म जन्मों जनम पीछा नहीं छोड़ता, ये समझ लेना ||

1 Like · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
इंसान जिन्हें
इंसान जिन्हें
Dr fauzia Naseem shad
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
"लबालब समन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ शुभ धन-तेरस।।
■ शुभ धन-तेरस।।
*Author प्रणय प्रभात*
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
जिंदगी के साथ साथ ही,
जिंदगी के साथ साथ ही,
Neeraj Agarwal
*दफ्तर बाबू फाइलें,अफसर मालामाल 【हिंदी गजल/दोहा गीतिका】*
*दफ्तर बाबू फाइलें,अफसर मालामाल 【हिंदी गजल/दोहा गीतिका】*
Ravi Prakash
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
बात
बात
Ajay Mishra
*उदघोष*
*उदघोष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राम दीन की शादी
राम दीन की शादी
Satish Srijan
2995.*पूर्णिका*
2995.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाय - दोस्ती
चाय - दोस्ती
Kanchan Khanna
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य
Shekhar Chandra Mitra
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
Loading...