Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2023 · 1 min read

#drarunkumarshastri

#drarunkumarshastri
रात होने पर सभी को सोना पड़ता है
सुबह होने पर सभी को जागना पड़ता है ।।
मजबूरियां है सभी की इस ज़िंदगी के चलते भाई
जिंदगी मिली है तो ये सब तो करना ही पड़ता है ।।

246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
■ क्यों करते हैं टाइम खोटा, आपस में मौसेर्रे भाई??
■ क्यों करते हैं टाइम खोटा, आपस में मौसेर्रे भाई??
*प्रणय प्रभात*
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
हृदय के राम
हृदय के राम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
sudhir kumar
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सफर जब रूहाना होता है
सफर जब रूहाना होता है
Seema gupta,Alwar
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
जोड़ियाँ
जोड़ियाँ
SURYA PRAKASH SHARMA
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
शेखर सिंह
जागो रे बीएलओ
जागो रे बीएलओ
gurudeenverma198
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
छिपे दुश्मन
छिपे दुश्मन
Dr. Rajeev Jain
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
एक चतुर नार
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
शीर्षक - मेरा भाग्य और कुदरत के रंग
शीर्षक - मेरा भाग्य और कुदरत के रंग
Neeraj Agarwal
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
“गर्व करू, घमंड नहि”
“गर्व करू, घमंड नहि”
DrLakshman Jha Parimal
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
Loading...