Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2023 · 1 min read

Dr Arun Kumar Shastri

Dr Arun Kumar Shastri
We infact least care for these 5 aspects but are most important in life.
1 Management of time
2 Management of relations
3 Management of money
4 Management of garbage
5 Management health

I mentioned Heath in the last why it is so is it self a point to ponder about 😊

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
मदर्स डे (मातृत्व दिवस)
मदर्स डे (मातृत्व दिवस)
Dr. Kishan tandon kranti
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पापा के परी
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
■
*Author प्रणय प्रभात*
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
The_dk_poetry
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
The Sweet 16s
The Sweet 16s
Natasha Stephen
खुद से खुद को
खुद से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
2451.पूर्णिका
2451.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
Loading...