Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2016 · 1 min read

36 का आंकड़ा

36 का आंकड़ा जो रखे उनसे है प्यार मुझे
बनाते हैं वही तो अक्सर भी कामयाब मुझे
*********************************
कपिल कुमार
04/11/2016

Language: Hindi
Tag: शेर
277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
*परिवार: सात दोहे*
*परिवार: सात दोहे*
Ravi Prakash
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
Neeraj Agarwal
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
दीवाली शुभकामनाएं
दीवाली शुभकामनाएं
kumar Deepak "Mani"
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ शर्म भी कर लो।
■ शर्म भी कर लो।
*प्रणय प्रभात*
*जो कहता है कहने दो*
*जो कहता है कहने दो*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बहुत बार
बहुत बार
Shweta Soni
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
"आम"
Dr. Kishan tandon kranti
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
VINOD CHAUHAN
पर्यावरण
पर्यावरण
Manu Vashistha
चमन यह अपना, वतन यह अपना
चमन यह अपना, वतन यह अपना
gurudeenverma198
सितारों से सजी संवरी इक आशियाना खरीदा है,
सितारों से सजी संवरी इक आशियाना खरीदा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
चाय की चमक, मिठास से भरी,
चाय की चमक, मिठास से भरी,
Kanchan Alok Malu
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
सुर्ख कपोलों पर रुकी ,
सुर्ख कपोलों पर रुकी ,
sushil sarna
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
कभी कभी
कभी कभी
surenderpal vaidya
इस तरफ न अभी देख मुझे
इस तरफ न अभी देख मुझे
Indu Singh
चराचर के स्वामी मेरे राम हैं,
चराचर के स्वामी मेरे राम हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...