Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

3417⚘ *पूर्णिका* ⚘

3417⚘ पूर्णिका
🌹 हमदम बन जाओं तुम 🌹
22 22 22
हमदम बन जाओं तुम।
हर खुशियांँ पाओं तुम ।।
चाहत भी अपनी है।
दुनिया महकाओं तुम ।।
जीवन आनंद यहाँ ।
रोज लुफ्त उठाओं तुम ।।
दिल के है हम राजा।
बस प्यार लुटाओं तुम ।।
साथ तुम्हारे खेदू।
मन चमन सजाओं तुम ।।
…….✍ डॉ .खेदू भारती “सत्येश “
08-05-202बुधवार

27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Hello
Hello
Yash mehra
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
Radhakishan R. Mundhra
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🙅आज पता चला🙅
🙅आज पता चला🙅
*प्रणय प्रभात*
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
"यादों के झरोखे से"..
पंकज कुमार कर्ण
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
हज़ारों साल
हज़ारों साल
abhishek rajak
प्रयास
प्रयास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रामदीन की शादी
रामदीन की शादी
Satish Srijan
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
जीवन का कठिन चरण
जीवन का कठिन चरण
पूर्वार्थ
*छॉंव की बयार (गजल संग्रह)* *सम्पादक, डॉ मनमोहन शुक्ल व्यथित
*छॉंव की बयार (गजल संग्रह)* *सम्पादक, डॉ मनमोहन शुक्ल व्यथित
Ravi Prakash
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...