Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

3260.*पूर्णिका*

3260.*पूर्णिका*
🌷 साथी मेरे बन जाओगे 🌷
22 22 22 22
साथी मेरे बन जाओगे।
अपनी मंजिल पा जाओगे।।
नाम कमाते आगे बढ़ते।
दुनिया भर में छा जाओगे।।
मत बनना तुम नादान यहाँ ।
दिल से सबको भा जाओगे।।
मुहब्बत मेरी जब जान गए ।
तब नफरत सब ढ़ा जाओगे ।।
दामन अपना सुंदर खेदू ।
यूं छोड़ अहं आ जाओगे।।
……..✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
10-04-2024बुधवार

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ये मेरा स्वयं का विवेक है
ये मेरा स्वयं का विवेक है
शेखर सिंह
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
*यदि मक्खी आकर हमें डराती (बाल कविता)*
*यदि मक्खी आकर हमें डराती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*जातक या संसार मा*
*जातक या संसार मा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
sushil sarna
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
💐प्रेम कौतुक-552💐
💐प्रेम कौतुक-552💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता
पिता
Swami Ganganiya
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
if you love me you will get love for sure.
if you love me you will get love for sure.
पूर्वार्थ
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...