Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

3254.*पूर्णिका*

3254.*पूर्णिका*
🌷 इंसाफ की डगर चलते रहे 🌷
2212 212 212
इंसाफ की डगर चलते रहे ।मंजिल रख नजर चलते रहे ।।
दुनिया नहीं बदलती किस्मत को ।
खुद छोड़ते कसर चलते रहे ।।
बढ़ते कदम जिंदगी भर यहाँ ।
आगे बढ़े सफर चलते रहे ।।
बस मेहनत आज पहचान है ।
सुंदर गुजर बसर चलते रहे ।।
चाहत नयी राह खेदू मगन ।
देखो खड़े शजर चलते रहे ।।
………✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
10-04-2024बुधवार

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
पुण्य आत्मा
पुण्य आत्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक पति पत्नी के संयोग से ही एक नए रिश्ते का जन्म होता है और
एक पति पत्नी के संयोग से ही एक नए रिश्ते का जन्म होता है और
Rj Anand Prajapati
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*लता (बाल कविता)*
*लता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
*गर्मी पर दोहा*
*गर्मी पर दोहा*
Dushyant Kumar
2984.*पूर्णिका*
2984.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
*हम तो हम भी ना बन सके*
*हम तो हम भी ना बन सके*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"महान गायक मच्छर"
Dr. Kishan tandon kranti
२९०८/२०२३
२९०८/२०२३
कार्तिक नितिन शर्मा
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
◆कुटिल नीति◆
◆कुटिल नीति◆
*प्रणय प्रभात*
जीवन रूपी बाग में ,सत्कर्मों के बीज।
जीवन रूपी बाग में ,सत्कर्मों के बीज।
Anamika Tiwari 'annpurna '
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पहचान धूर्त की
पहचान धूर्त की
विक्रम कुमार
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक – रिश्ते नाते
मुक्तक – रिश्ते नाते
Sonam Puneet Dubey
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
सत्य कुमार प्रेमी
काश ये
काश ये
हिमांशु Kulshrestha
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
Loading...