Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

3249.*पूर्णिका*

3249.*पूर्णिका*
🌷 पानी की तरह बहते रहे🌷
22 212 2212
पानी की तरह बहते रहे ।
अपनों की तरह कहते रहे।।
ये बदले नहीं हालात भी ।
बेदर्द की तरह सहते रहे ।।
दुनिया बस तमाशा देखती।
गूँगों की तरह रहते रहे ।।
देखो घाम में छाया नहीं ।
बस अग्नि की तरह दहते रहे।।
अरमाँ संभले खेदू यहाँ ।
भीतों की तरह ढ़हते रहे।।
……✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
08-04-2024सोमवार

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
इंजी. संजय श्रीवास्तव
??????...
??????...
शेखर सिंह
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
चेहरे पे चेहरा (ग़ज़ल – विनीत सिंह शायर)
चेहरे पे चेहरा (ग़ज़ल – विनीत सिंह शायर)
Vinit kumar
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
AJAY AMITABH SUMAN
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
बुंदेली दोहे- कीचर (कीचड़)
बुंदेली दोहे- कीचर (कीचड़)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
अगर आपको किसी से कोई समस्या नहीं है तो इसमें कोई समस्या ही न
अगर आपको किसी से कोई समस्या नहीं है तो इसमें कोई समस्या ही न
Sonam Puneet Dubey
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
2664.*पूर्णिका*
2664.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू
तू
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
VINOD CHAUHAN
अर्थ नीड़ पर दर्द के,
अर्थ नीड़ पर दर्द के,
sushil sarna
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
😊आज का सच😊
😊आज का सच😊
*प्रणय प्रभात*
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
Loading...