Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

3155.*पूर्णिका*

3155.*पूर्णिका*
🌷 हम खुश है तुम्हें पाकर🌷
22 212 22
हम खुश है तुम्हें पाकर।
तुम खुश हो हमें पाकर।।
दुनिया खुशनुमा अपनी।
खुश है जिंदगी पाकर ।।
गूंजे गीत प्यारा सा।
ये संगीत मस्त पाकर।।
दामन प्यार का थामे ।
दिल खुश साथ यूं पाकर ।।
बगियां महकती खेदू।
सच हमदोस्त अब पाकर ।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
21-03-2024गुरुवार

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
Shweta Soni
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
"सलाह"
Dr. Kishan tandon kranti
2971.*पूर्णिका*
2971.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कण कण में है श्रीराम
कण कण में है श्रीराम
Santosh kumar Miri
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शुक्रिया जिंदगी!
शुक्रिया जिंदगी!
Madhavi Srivastava
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
भोले
भोले
manjula chauhan
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
sushil sarna
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हे बुद्ध
हे बुद्ध
Dr.Pratibha Prakash
कहते हैं लोग
कहते हैं लोग
हिमांशु Kulshrestha
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
Sadhavi Sonarkar
फ्राॅड की कमाई
फ्राॅड की कमाई
Punam Pande
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...