Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

3144.*पूर्णिका*

3144.*पूर्णिका*
🌷 प्यार है हमसे,जताना नहीं आता🌷
2122 2122 1222
प्यार है हमसे,जताना नहीं आता ।
साथ होके भी बताना नहीं आता।।
महकता है यूं गुलाब चमन चमन में ।
सच पूछो तो मन हर्षाना नहीं आता ।।
खूबसूरत जिंदगी है यहाँ देखो।
रंग दुनिया का दिखाना नहीं आता ।।
किस्मत की सौगात मिलती कभी हमको।
ये किसी से दिल लगाना नहीं आता ।।
बात करते सब बड़ी शान से खेदू।
देश खातिर सर कटाना नहीं आता ।।
………….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-03-2024मंगलवार

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
मजदूर
मजदूर
Dinesh Kumar Gangwar
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ग़ज़ल _मुहब्बत के मोती , चुराए गए हैं ।
ग़ज़ल _मुहब्बत के मोती , चुराए गए हैं ।
Neelofar Khan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
Dr Mukesh 'Aseemit'
सगीर की ग़ज़ल
सगीर की ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
*बादल चाहे जितना बरसो, लेकिन बाढ़ न आए (गीत)*
*बादल चाहे जितना बरसो, लेकिन बाढ़ न आए (गीत)*
Ravi Prakash
वीर गाथा है वीरों की ✍️
वीर गाथा है वीरों की ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...