Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2024 · 1 min read

3111.*पूर्णिका*

3111.*पूर्णिका*
🌷 दुनिया के रंग यहाँ सुंदर🌷
22 22 22 22
दुनिया के रंग यहाँ सुंदर ।
जीने का ढंग यहाँ सुंदर।।
मंजिल मिलती है चाहत से।
संघर्ष की जंग यहाँ सुंदर।।
चमके सच में भाग्य सितारें ।
सपनें भी दंग यहाँ सुंदर।।
वक्त अपना है देखो यारों ।
रोज नियम भंग यहाँ सुंदर ।।
माटी का लाल बने खेदू।
प्यारा सा अंग यहाँ सुंदर।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-03-2024मंगलवार

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
gurudeenverma198
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
*नारी के सोलह श्रृंगार*
*नारी के सोलह श्रृंगार*
Dr. Vaishali Verma
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सुना है हमने दुनिया एक मेला है
सुना है हमने दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
लेखक
लेखक
Shweta Soni
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
रूह की चाहत🙏
रूह की चाहत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पहली मुलाकात ❤️
पहली मुलाकात ❤️
Vivek Sharma Visha
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
■ एक शाश्वत सच
■ एक शाश्वत सच
*प्रणय प्रभात*
रानी मर्दानी
रानी मर्दानी
Dr.Pratibha Prakash
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*श्री रामप्रकाश सर्राफ*
*श्री रामप्रकाश सर्राफ*
Ravi Prakash
.........?
.........?
शेखर सिंह
ऑफिसियल रिलेशन
ऑफिसियल रिलेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
Loading...