Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

3089.*पूर्णिका*

3089.*पूर्णिका*
🌷 सोच बदल चला कीजिए🌷
22 212 212
सोच बदल चला कीजिए ।
खुद खुद का भला कीजिए ।।
दुनिया रंग में रंगते ।
वक्त अपना ढ़ला कीजिए ।।
चाहत है हमें रौशनी ।
दीया बन जला कीजिए ।।
बाजी जीतते हार के ।
मूँग यहाँ दला कीजिए ।।
तरक्की आज खेदू यहाँ ।
नेकी में पला कीजिए ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
08-03-2024शुक्रवार

1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
जिंदगी रूठ गयी
जिंदगी रूठ गयी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
शेखर सिंह
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
समाज को जगाने का काम करते रहो,
समाज को जगाने का काम करते रहो,
नेताम आर सी
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
*जातक या संसार मा*
*जातक या संसार मा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
माँ और बेटी.. दोनों एक ही आबो हवा में सींचे गए पौधे होते हैं
माँ और बेटी.. दोनों एक ही आबो हवा में सींचे गए पौधे होते हैं
Shweta Soni
3220.*पूर्णिका*
3220.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
***
***
sushil sarna
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
न चाहिए
न चाहिए
Divya Mishra
love or romamce is all about now  a days is only physical in
love or romamce is all about now a days is only physical in
पूर्वार्थ
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
Loading...