Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

3024.*पूर्णिका*

3024.*पूर्णिका*
🌷 मेरी पहचान हो तुम
22 22 122
मेरी पहचान हो तुम ।
मेरी अरमान हो तुम ।।
दुनिया बस जिंदगी की ।
सच मेरी जान हो तुम ।।
रखते ख्वाहिश निहायत ।
आन यहाँ शान हो तुम ।।
पाकर तुझको कहे क्या।
मेरी अभिमान हो तुम ।।
नाता खेदू जन्मों का ।
करते कुरबान हो तुम ।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
18-02-2024रविवार

60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"इंसान हो इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
हौसला
हौसला
Monika Verma
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
■ ज़रा_याद_करो_कुर्बानी
■ ज़रा_याद_करो_कुर्बानी
*Author प्रणय प्रभात*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
दस्तक बनकर आ जाओ
दस्तक बनकर आ जाओ
Satish Srijan
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
पिता
पिता
Shweta Soni
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
Neelam Sharma
देखो भालू आया
देखो भालू आया
Anil "Aadarsh"
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
दोहा - चरित्र
दोहा - चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
"Don't be fooled by fancy appearances, for true substance li
Manisha Manjari
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
शेखर सिंह
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
Aadarsh Dubey
सफर
सफर
Arti Bhadauria
हम
हम
Shriyansh Gupta
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
Dr MusafiR BaithA
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...