Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

3011.*पूर्णिका*

3011.*पूर्णिका*
🌷 भूखे हम तो प्यार के
22 22 212
भूखे हम तो प्यार के।
यारा हम तो यार के।।
साथी बनके साथ है ।
नैना भी दो चार के ।।
दुनिया सुंदर देख लो ।
जीवन सब बलिहार के ।।
जीना मरना मीत है ।
जाए सबको तार के।।
खुशियां खेदू हाथ में।
रीत यहाँ संसार के।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
15-02-2024गुरुवार

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
2931.*पूर्णिका*
2931.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
देवराज यादव
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
बदनसीब डायरी
बदनसीब डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
Vishal babu (vishu)
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईश्वर का रुप मां
ईश्वर का रुप मां
Keshi Gupta
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
यादें
यादें
Dr fauzia Naseem shad
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
इतना कभी ना खींचिए कि
इतना कभी ना खींचिए कि
Paras Nath Jha
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
gurudeenverma198
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...