Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

3004.*पूर्णिका*

3004.*पूर्णिका*
🌷 मन से संकल्पित हो जाएं
22 2212 22
मन से संकल्पित हो जाएं ।
आनंद पल्लवित हो जाएं।।
दुनिया जीत आगे बढ़ते।
संग समय पुष्पित हो जाएं।।
खुद को पहचान जाते सच ।
इंसान समर्पित हो जाएं ।।
आते बदलाव जीवन में ।
अपनी जां अर्पित हो जाएं ।।
बेफिक्र रहते यहाँ खेदू।
जब साज सुसज्जित हो जाएं ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
13-02-2024मंगलवार

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
Mohan Pandey
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कर्मगति
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*जिनसे दूर नहान, सभी का है अभिनंदन (हास्य कुंडलिया)*
*जिनसे दूर नहान, सभी का है अभिनंदन (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संविधान
संविधान
लक्ष्मी सिंह
मन
मन
Happy sunshine Soni
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
ek abodh balak
ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
पूर्वार्थ
एक कहानी- पुरानी यादें
एक कहानी- पुरानी यादें
Neeraj Agarwal
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...