Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

2960.*पूर्णिका*

2960.*पूर्णिका*
🌷 शांत मन सही निर्णय 🌷
212 1212
शांत मन सही निर्णय ।
भ्रांत मन कहीं प्रलय ।।
जिंदगी सजे धजे।
श्रांत मन यही निश्चय ।।
सोच यूं रखे बढ़े।
प्रांत मन यहीं संचय ।।
देख सब अजब गजब ।
कांत मन दही विस्मय ।।
देख गम खुशी खेदू।
क्रांत मन नहीं तन्मय।।

……✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
25-01-2024गुरुवार

90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
तमाम लोग
तमाम लोग "भोंपू" की तरह होते हैं साहब। हर वक़्त बजने का बहाना
*Author प्रणय प्रभात*
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
पूर्वार्थ
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
कोई भी
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अज़ब दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम ,   रहेंगे जुदा ना ,ना  बिछुड़ेंगे
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे
DrLakshman Jha Parimal
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
Loading...