Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

2956.*पूर्णिका*

2956.*पूर्णिका*
🌷 दुनिया में अपना नाम कर 🌷
22 22 2212
दुनिया में अपना नाम कर ।
कुछ तो अपना काम कर ।।
लोग जहर उगलेंगे यहाँ ।
पीकर रोज सुधा धाम कर ।।
बदलाव करेंगे सोंच हम ।
देखें नेक खुलेआम कर ।।
खुशियाँ नाचे झूमे जहाँ ।
छलके छलके है जाम कर ।।
बदले खेदू क्या नजरिया ।
हरदम ना तू आराम कर ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
24-01-2024बुधवार

85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अतीत"
Dr. Kishan tandon kranti
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
2939.*पूर्णिका*
2939.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नैन
नैन
TARAN VERMA
"अनकही सी ख़्वाहिशों की क्या बिसात?
*Author प्रणय प्रभात*
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
Manju sagar
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
Jyoti Khari
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
*गाते गाथा राम की, मन में भर आह्लाद (कुंडलिया)*
*गाते गाथा राम की, मन में भर आह्लाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
Apni Qimat
Apni Qimat
Dr fauzia Naseem shad
दिल से दिल को जोड़, प्रीति रंग गाती होली
दिल से दिल को जोड़, प्रीति रंग गाती होली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
Loading...