Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

2936.*पूर्णिका*

2936.*पूर्णिका*
🌷 शक अपना दूर कर ले 🌷
22 22 122
शक अपना दूर कर ले।
मन से मंजूर कर ले।।
नजरों से खुश नजारे ।
खुशियाँ भरपूर कर ले।।
आना जाना लगा ही ।
कोई मजबूर कर ले।।
नाम यहाँ शोहरत भी ।
खुद काम जरूर कर ले।।
बस खेदू नेकिया है ।
दुनिया अब नूर कर ले।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
15-01-2024सोमवार

90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
Aarti sirsat
■ बेमन की बात...
■ बेमन की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
*सादगी के हमारे प्रयोग (हास्य व्यंग्य )*
*सादगी के हमारे प्रयोग (हास्य व्यंग्य )*
Ravi Prakash
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
🙏गजानन चले आओ🙏
🙏गजानन चले आओ🙏
SPK Sachin Lodhi
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
"जाति"
Dr. Kishan tandon kranti
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यादें
यादें
Versha Varshney
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
Rj Anand Prajapati
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
कोई पूछे की ग़म है क्या?
कोई पूछे की ग़म है क्या?
Ranjana Verma
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
3232.*पूर्णिका*
3232.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
मैंने पीनी छोड़ तूने जो अपनी कसम दी
मैंने पीनी छोड़ तूने जो अपनी कसम दी
Vishal babu (vishu)
संघर्ष के बिना
संघर्ष के बिना
gurudeenverma198
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...