Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

2932.*पूर्णिका*

2932.*पूर्णिका*
🌷 जो दिल के करीब होते हैं🌷
22 212 1222
जो दिल के करीब होते हैं ।
वो न कभी गरीब होते हैं ।।
गाते यूं जहाँ तराने कुछ ।
देख बड़े खुशनसीब होते हैं ।।
ये दुनिया मचलती नजारों से।
सच नायाब तरकीब होते हैं ।।
रख हर मर्ज का इलाज हरदम ।
आज मतलबी तबीब होते हैं ।।
जीवन की अलग ही कहानी है ।
अपनी मंजिल हबीब होते हैं ।।
कोशिश कर जीत की यहाँ खेदू।
सच पूछो तो रकीब होते हैं ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
13-01-2024शनिवार

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
💐प्रेम कौतुक-560💐
💐प्रेम कौतुक-560💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नया भारत
नया भारत
दुष्यन्त 'बाबा'
* गीत मनभावन सुनाकर *
* गीत मनभावन सुनाकर *
surenderpal vaidya
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
शातिरपने की गुत्थियां
शातिरपने की गुत्थियां
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गुजरे हुए लम्हात को का याद किजिए
गुजरे हुए लम्हात को का याद किजिए
VINOD CHAUHAN
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*Author प्रणय प्रभात*
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अर्कान - फाइलातुन फ़इलातुन फैलुन / फ़अलुन बह्र - रमल मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़ो मक़़्तअ
अर्कान - फाइलातुन फ़इलातुन फैलुन / फ़अलुन बह्र - रमल मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़ो मक़़्तअ
Neelam Sharma
3154.*पूर्णिका*
3154.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Tujhe pane ki jung me khud ko fana kr diya,
Tujhe pane ki jung me khud ko fana kr diya,
Sakshi Tripathi
जन्म से
जन्म से
Santosh Shrivastava
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
Amit Pandey
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
Loading...