Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

2925.*पूर्णिका*

2925.*पूर्णिका*
🌷 चाहते तो तुम भी हो🌷
212 22 22
चाहते तो तुम भी हो ।
देख के खुश तुम भी हो ।।
जिंदगी है जंग यहाँ ।
रोज लड़ते तुम भी हो ।।
सब पता है तुमको सच।
राज रखते तुम भी हो ।।
रात बीती दिन निकला।
साथ चलते तुम भी हो ।।
प्यार की दुनिया खेदू ।
भाग्यशाली तुम भी हो ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
10-01-2024बुधवार

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
Sakhawat Jisan
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
मौजीराम  (कुंडलिया)
मौजीराम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
Sannato me shor bhar de
Sannato me shor bhar de
Sakshi Tripathi
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
😢4
😢4
*Author प्रणय प्रभात*
2626.पूर्णिका
2626.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
Leena Anand
दिव्य काशी
दिव्य काशी
Pooja Singh
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan sarda Malu
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
भाई हो तो कृष्णा जैसा
भाई हो तो कृष्णा जैसा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
Jyoti Khari
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
Loading...