Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

2911.*पूर्णिका*

2911.*पूर्णिका*
🌷 हम वक्त के पाबंद रहे🌷
22 22 22 2
हम वक्त के पाबंद रहे।
जीवन भी आनंद रहे।।
दुनिया है अपनी सुंदर।
मन मोहक रस छंद रहे।।
छोड़े अपनी छाप अलग।
बेफिक्र हम ना द्वंद रहे।।
मानवता की अलख जगे।
ना कोई जयचंद रहे।।
खुशियां बांटे खेदू सब ।
साथ भरोसेमंद रहे।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
06-01-2024रविवार

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
” सबको गीत सुनाना है “
” सबको गीत सुनाना है “
DrLakshman Jha Parimal
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।
Pratibha Pandey
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
Rashmi Ranjan
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*Author प्रणय प्रभात*
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
कुछ बातें ज़रूरी हैं
कुछ बातें ज़रूरी हैं
Mamta Singh Devaa
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
अर्थार्जन का सुखद संयोग
अर्थार्जन का सुखद संयोग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
मत फेर मुँह
मत फेर मुँह
Dr. Kishan tandon kranti
Expectation is the
Expectation is the
Shyam Sundar Subramanian
टूटी बटन
टूटी बटन
Awadhesh Singh
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पुष्पदल
पुष्पदल
sushil sarna
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
Loading...