Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2024 · 1 min read

2892.*पूर्णिका*

2892.*पूर्णिका*
🌷 समस्या में समाधान होता है🌷
22 212 212 22
समस्या में समाधान होता है ।
पल पल बस व्यवधान होता है ।।
उलझी जिंदगी जान ले कैसी।
वक्त का ही कराधान होता है ।।
दुनिया बदलती है यहाँ देखो।
मन से मन जब प्रधान होता है ।।
कोशिश आज नाकाम हो जाते।
कैसा कौन नादान होता है ।।
छोटी सोच जो भी रखे खेदू।
सच हरदम परेशान होता है ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
04-01-2024गुरुवार

86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
Shashi kala vyas
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
शायद शब्दों में भी
शायद शब्दों में भी
Dr Manju Saini
💐प्रेम कौतुक-210💐
💐प्रेम कौतुक-210💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
Sonu sugandh
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2504.पूर्णिका
2504.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सलाह .... लघुकथा
सलाह .... लघुकथा
sushil sarna
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
मैं खाना खाकर तुमसे चैट करूँगा ।
मैं खाना खाकर तुमसे चैट करूँगा ।
Dr. Man Mohan Krishna
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
एक बेजुबान की डायरी
एक बेजुबान की डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
श्याम सिंह बिष्ट
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
■ पसंद अपनी-अपनी, शौक़ अपने-अपने। 😊😊
■ पसंद अपनी-अपनी, शौक़ अपने-अपने। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
दो मीत (कुंडलिया)
दो मीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...