Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2024 · 1 min read

2884.*पूर्णिका*

2884.*पूर्णिका*
🌷 *मिलती मंजिल छांट कर देखिए *🌷
22 22 212 212
मिलती मंजिल छांट कर देखिए ।
जो कुछ भी है बांट कर देखिए ।।

बढ़ती खुशियाँ बांटने से यहाँ ।
ये गम क्या है बांट कर देखिए ।।

खुश किस्मत यहाँ वो जिसे हम मिले।
प्यार जहाँ बस बांट कर देखिए ।।

देखे हैं दर्द भी कहाँ ये कमी।
आकर मरहम बांट कर देखिए ।।

चाहत खेदू जिंदगी संवरे।
दुनिया में सुख बांट कर देखिए ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
03-01-2024बुधवार

105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
"प्रेम की अनुभूति"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
Arvind trivedi
दलित के भगवान
दलित के भगवान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"ए एड़ी न होती"
Dr. Kishan tandon kranti
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
स्वतंत्रता दिवस
स्वतंत्रता दिवस
Dr Archana Gupta
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कुछ नही मिलता आसानी से,
कुछ नही मिलता आसानी से,
manjula chauhan
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
💐प्रेम कौतुक-466💐
💐प्रेम कौतुक-466💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रंजिशें
रंजिशें
AJAY AMITABH SUMAN
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुहब्बत की दुकान
मुहब्बत की दुकान
Shekhar Chandra Mitra
Loading...