Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2023 · 1 min read

2870.*पूर्णिका*

2870.*पूर्णिका*
🌷 ना टूटे उम्मीद यहाँ🌷
22 212 22
ना टूटे उम्मीद यहाँ ।
हो पूरी उम्मीद यहाँ ।।
दुनिया आज सपनों की ।
रखते सब उम्मीद यहाँ ।।
उड़ते हौसलों से हम ।
खुशियाँ दे उम्मीद यहाँ ।।
अपनी चाह राह बने।
जीवन है उम्मीद यहाँ ।।
देखो साफ दिल खेदू।
नेकी भी उम्मीद यहाँ ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
28-12-2023गुरूवार

106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ लोक संस्कृति का पर्व : गणगौर
■ लोक संस्कृति का पर्व : गणगौर
*Author प्रणय प्रभात*
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय 6
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय 6
Pravesh Shinde
2470.पूर्णिका
2470.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
Exploring Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity and Rational Inquiry
Exploring Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity and Rational Inquiry
Harekrishna Sahu
"समय के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
बचपन
बचपन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अलविदा ज़िंदगी से
अलविदा ज़िंदगी से
Dr fauzia Naseem shad
चूहा भी इसलिए मरता है
चूहा भी इसलिए मरता है
शेखर सिंह
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
Arvind trivedi
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
आज़ादी की जंग में यूं कूदा पंजाब
आज़ादी की जंग में यूं कूदा पंजाब
कवि रमेशराज
"शायद."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
The Little stars!
The Little stars!
Buddha Prakash
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
Loading...