Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

2815. *पूर्णिका*

2815. पूर्णिका
पाकर साथ समझदार हो गए
22 22 22 1212
पाकर साथ समझदार हो गए ।
देख जहान तरफदार हो गए ।।
दंश यहाँ झेले बेगुनाह भी ।
वक्त भी आज वफादार हो गए ।।
सच का दामन छोड़ा नहीं कभी ।
बनके हीर चमकदार हो गए ।।
काम यहाँ ये दुनिया मुरीद भी।
टूटे ना मन दमदार हो गए ।।
कहते खेदू जाने पक्के जुबां ।
बस दिन रात असरदार हो गए ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-12-2023मंगलवार

205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#लिख_के_रख_लो।
#लिख_के_रख_लो।
*प्रणय प्रभात*
वो क्या देंगे साथ है,
वो क्या देंगे साथ है,
sushil sarna
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
Anand.sharma
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
Manju sagar
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
पूर्वार्थ
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2912.*पूर्णिका*
2912.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुद्ध होने का अर्थ
बुद्ध होने का अर्थ
महेश चन्द्र त्रिपाठी
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
Ajay Kumar Vimal
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
“ कौन सुनेगा ?”
“ कौन सुनेगा ?”
DrLakshman Jha Parimal
तू है
तू है
Satish Srijan
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
..........
..........
शेखर सिंह
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...