Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

2803. *पूर्णिका*

2803. पूर्णिका
बेहतर बनती जिंदगी
212 22 212
बेहतर बनती जिंदगी।
मंजिलें बनती जिंदगी।।
राह भी प्यारी-सी यहाँ ।
खुशनुमा बनती जिंदगी।।
सोच ना हो यूं जहर सा।
नेकिया मीठी जिंदगी।।
फूल भी खिलते महकते।
बस बने बगियां जिंदगी।।
दे खुशी खेदू प्यार से ।
देख लो सागर जिंदगी।।
……✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
08-12-2023शुक्रवार

85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
.....,
.....,
शेखर सिंह
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#जंगल_में_मंगल
#जंगल_में_मंगल
*Author प्रणय प्रभात*
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
प्रदूषण-जमघट।
प्रदूषण-जमघट।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
कविता
कविता
Alka Gupta
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
DrLakshman Jha Parimal
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
Ram Krishan Rastogi
2553.पूर्णिका
2553.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गीत
गीत
Kanchan Khanna
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
वीर हनुमान
वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
पूर्वार्थ
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
एक है ईश्वर
एक है ईश्वर
Dr fauzia Naseem shad
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
बुढापे की लाठी
बुढापे की लाठी
Suryakant Dwivedi
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
Ranjeet kumar patre
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
Loading...