Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

2752. *पूर्णिका*

2752. पूर्णिका
पास तुम्हारें क्या है देखो
22 22 22 22
पास तुम्हारें क्या है देखो।
साथ तुम्हारें क्या है देखो।।
पाते हैं सब ,हो इच्छा-शक्ति ।
आज तुम्हारें क्या है देखो।।
रोज बदलता मौसम पल पल ।
रंग तुम्हारें क्या है देखो।।
दुनिया अपनी कैसी होती ।
सोच तुम्हारें क्या है देखो।।
मन जीतेगा खेदू सबका।
हाथ तुम्हारें क्या है देखो।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
23-11-2023गुरूवार

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
2544.पूर्णिका
2544.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
Manoj Mahato
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
"मेरे तो प्रभु श्रीराम पधारें"
राकेश चौरसिया
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
हिम बसंत. . . .
हिम बसंत. . . .
sushil sarna
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
मन तो बावरा है
मन तो बावरा है
हिमांशु Kulshrestha
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
🙅चुनावी चौपाल🙅
🙅चुनावी चौपाल🙅
*प्रणय प्रभात*
Loading...