Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

2724.*पूर्णिका*

2724.*पूर्णिका*
🌷*मेरी छोटी-सी दुनिया का हिस्सा हो तुम*🌷
22 22 22 2212 22
मेरी छोटी सी दुनिया का हिस्सा हो तुम।
महके मन रोज मधुरता का किस्सा हो तुम।।
होता है जीवन वो जो किस्मत में रहता।
बस मेरी आस सफलता का किस्सा हो तुम ।।
सागर की लहरें कहती है बहुत कुछ सच ।
अपने साहिल से साहिल का किस्सा हो तुम ।।
ये सुंदर कुदरत का कानून भी चलता।
अनुपम सा नजर नजारों का किस्सा हो तुम ।।
रातों में चांद सितारें चमकते खेदू।
नेक यहाँ मेरे जीवन का किस्सा हो तुम ।।
…….✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
13-11-23 सोमवार

1 Like · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
रंगमंच
रंगमंच
Ritu Asooja
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
यादो की चिलमन
यादो की चिलमन
Sandeep Pande
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
मौसम
मौसम
surenderpal vaidya
एक ज्योति प्रेम की...
एक ज्योति प्रेम की...
Sushmita Singh
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
*राम अर्थ है भवसागर से, तरने वाले नाम का (मुक्तक)*
*राम अर्थ है भवसागर से, तरने वाले नाम का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सोच
सोच
Srishty Bansal
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
Loading...