Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

2707.*पूर्णिका*

2707.*पूर्णिका*
तेरी खुशी में मेरी खुशी है
2212 22 2122
तेरी खुशी में मेरी खुशी है ।
तुम खुश रहो बस मेरी खुशी है ।।
ये कहानी अपनी जिंदगी की।
सुंदर लिखो बस मेरी खुशी है ।।
दुनिया यहाँ तरक्की देखते हैं ।
आगे बढ़ो बस मेरी खुशी है ।।
सुख दुख लगा रहता गम खुशी भी ।
साथी बनो बस मेरी खुशी है ।।
हालात बदलेंगे सोच खेदू ।
नेकी करो बस मेरी खुशी है।।
……..✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
09-11-23 गुरुवार

236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
It’s all a process. Nothing is built or grown in a day.
It’s all a process. Nothing is built or grown in a day.
पूर्वार्थ
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
नदियां
नदियां
manjula chauhan
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
मैं चाहता था  तुम्हें
मैं चाहता था तुम्हें
sushil sarna
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
किस बात का गुमान है
किस बात का गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
VINOD CHAUHAN
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
The Nature
The Nature
Bidyadhar Mantry
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
लतियाते रहिये
लतियाते रहिये
विजय कुमार नामदेव
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
Babli Jha
तुमको अच्छा तो मुझको इतना बुरा बताते हैं,
तुमको अच्छा तो मुझको इतना बुरा बताते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
■
■ "मान न मान, मैं तेरा मेहमान" की लीक पर चलने का सीधा सा मतल
*प्रणय प्रभात*
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Sukoon
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
Loading...