Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2023 · 1 min read

2599.पूर्णिका

2599.पूर्णिका
🌷राह देखते रह गए 🌷
2121 2212
राह देखते रह गए ।
हाथ सेंकते रह गए ।।
काम भूलते नाम लिख ।
बात फेंकते रह गए ।।
साथ साथ रहते कहाँ ।
माथ टेकते रह गए ।।
दाम क्या न जाने यहाँ ।
लोग बेचते रह गए ।।
दौर अजब खेदू कहे।
धान कूटते रह गए ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
11-10-2023बुधवार

238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* शरारा *
* शरारा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
-- फिर हो गयी हत्या --
-- फिर हो गयी हत्या --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
कृष्णकांत गुर्जर
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
Kumar lalit
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
आओ नया निर्माण करें
आओ नया निर्माण करें
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
इक क्षण
इक क्षण
Kavita Chouhan
■ नीतिगत सच...
■ नीतिगत सच...
*Author प्रणय प्रभात*
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सच का सूरज
सच का सूरज
Shekhar Chandra Mitra
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
((((((  (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
Rituraj shivem verma
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ताकि वो शान्ति से जी सके
ताकि वो शान्ति से जी सके
gurudeenverma198
Loading...