Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

2546.पूर्णिका

2546.पूर्णिका
🌷चेहरा ढंके नकाब से 🌷
212 22 1212
चेहरा ढंके नकाब से।
जिंदगी महके गुलाब से।।
प्यार करते प्यार है यहाँ ।
राह पे चलते हिसाब से ।।
बदल जाते है नसीब भी ।
सीख जो लेते किताब से।।
जन्नत क्या देखे जहन्नुम क्या।
ये जहां मोहित शबाब से।।
मंजिलें खेदू कहाँ नहीं ।
आज हम रहते रुआब से।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
3-10-2023मंगलवार

132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
कार्तिक नितिन शर्मा
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
सत्य पथ पर (गीतिका)
सत्य पथ पर (गीतिका)
surenderpal vaidya
मेरा प्रेम पत्र
मेरा प्रेम पत्र
डी. के. निवातिया
😊■रोज़गार■😊
😊■रोज़गार■😊
*Author प्रणय प्रभात*
जिस्म तो बस एक जरिया है, प्यार दो रूहों की कहानी।
जिस्म तो बस एक जरिया है, प्यार दो रूहों की कहानी।
Manisha Manjari
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
बिछोह
बिछोह
Shaily
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
Rj Anand Prajapati
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
Akash Yadav
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
*मौत आग का दरिया*
*मौत आग का दरिया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
ये दिल उनपे हम भी तो हारे हुए हैं।
ये दिल उनपे हम भी तो हारे हुए हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
गीत
गीत
Shiva Awasthi
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...