Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

2504.पूर्णिका

2504.पूर्णिका
🌷 सबका भला करें🌷
22 1212
सबका भला करें।
सतपथ चला करें।।
महके जर्रा जर्रा ।
दुनिया जला करें ।।
खुद पर यकीन रख ।
अरमाँ पला करें।।
ना हार हिम्मत तू ।
वक्त भी छला करें ।।
खेदू यहाँ जवाँ ।
संकट टला करें ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
27-9-2023बुधवार

118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
Madhuyanka Raj
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कोई भी जंग अंग से नही बल्कि हौसले और उमंग से जीती जाती है।
कोई भी जंग अंग से नही बल्कि हौसले और उमंग से जीती जाती है।
Rj Anand Prajapati
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】
छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】
Ravi Prakash
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
Neelam Sharma
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
पूर्वार्थ
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
#तार्किक_तथ्य
#तार्किक_तथ्य
*Author प्रणय प्रभात*
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
Sanjay ' शून्य'
2617.पूर्णिका
2617.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नेता के बोल
नेता के बोल
Aman Sinha
Loading...