Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Aug 2023 · 1 min read

2447.पूर्णिका

2447.पूर्णिका
🌹चाहों तो प्यार मिलता है 🌹
22 2212 22
चाहों तो प्यार मिलता है ।
मनभावन यार मिलता है ।।
खिलती है जिंदगी हरदम।
सुंदर संसार मिलता है ।।
रखते जब सोच नेक यहाँ ।
प्यारा आधार मिलता है ।।
दुनिया भी बदलती सच में ।
वक्त भी दमदार मिलता है ।।
देखो खुशियाँ जहाँ खेदू ।
सपना साकार मिलता है ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
25-8-2023शुक्रवार

1 Like · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
Sanjay ' शून्य'
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
#ऐसे_समझिए...
#ऐसे_समझिए...
*Author प्रणय प्रभात*
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
अभी ख़ुद से बाहर
अभी ख़ुद से बाहर
Dr fauzia Naseem shad
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
मदर इंडिया
मदर इंडिया
Shekhar Chandra Mitra
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
Tarun Singh Pawar
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
चवपैया छंद , 30 मात्रा (मापनी मुक्त मात्रिक )
चवपैया छंद , 30 मात्रा (मापनी मुक्त मात्रिक )
Subhash Singhai
सत्य खोज लिया है जब
सत्य खोज लिया है जब
Buddha Prakash
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...