Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

2445.पूर्णिका

2445.पूर्णिका
🌹मंजिल भी पग चूमे🌹
22 22 22
मंजिल भी पग चूमे ।
अपना मन जग झूमे ।।
दुनिया है प्यारी-सी ।
गाकर अब खग झूमे ।।
दिल से दिल यूं गाते ।
मस्त मौला डग झूमे ।।
मिलते हमदोस्त यहाँ ।
बनके कब ठग झूमे ।।
रहबर हरदम खेदू ।
महके रग रग झूमे ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
23-8-2023बुधवार

266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
द्वितीय ब्रह्मचारिणी
द्वितीय ब्रह्मचारिणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
गलतियाँ हो गयीं होंगी
गलतियाँ हो गयीं होंगी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
Manisha Manjari
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ मंगलमय गणतंत्र....
■ मंगलमय गणतंत्र....
*Author प्रणय प्रभात*
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खुशी की तलाश
खुशी की तलाश
Sandeep Pande
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
Neeraj Agarwal
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Sakshi Tripathi
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
चिन्तन का आकाश
चिन्तन का आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
कवि दीपक बवेजा
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
प्रेम की राख
प्रेम की राख
Buddha Prakash
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
Loading...