Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

2394.पूर्णिका

2394.पूर्णिका
🌹कहना नहीं चाहता पर कह देता हूँ 🌹
2212 2122 22 22
कहना नहीं चाहता पर कह देता हूँ ।
परेशान है वेदना पर कह देता हूँ ।।
अहसास तो रोज करते दिल ये अपना।
दुनिया यहाँ सितमगर पर कह देता हूँ ।।
रोशन यहाँ जिंदगी भी करता सूरज ।
अपनी कहाँ हसरतें पर कह देता हूँ ।।
सावन बरसते फुहारें प्यारी लगती ।
बरसात की ले मजा पर कह देता हूँ ।।
यूं चेहरा दमकता फूलों सा खेदू ।
मिलती जहाँ मंजिलें पर कह देता हूँ ।।
…………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-7-2023बुधवार

241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
लड़खाएंगे कदम
लड़खाएंगे कदम
Amit Pandey
अपना सपना :
अपना सपना :
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
फोन
फोन
Kanchan Khanna
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
ruby kumari
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
gurudeenverma198
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
#सामयिक_कविता:-
#सामयिक_कविता:-
*Author प्रणय प्रभात*
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...