Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 1 min read

2392.पूर्णिका

2392.पूर्णिका
🌷सियासत का ये दौर देखिए 🌷
1222 22 1212
सियासत का ये दौर देखिए ।
गुनाह करेंगे और देखिए ।।
न बोले इंसां बेजुबान है ।
यहाँ क्या खाते कौर देखिए ।।
चमन भी महके जब कभी जहाँ ।
जरा अमराई बौर देखिए ।।
घरौंदों का जग सब बिखेरते ।
सजे कैसे सिरमौर देखिए ।।
ठिकाना भी खेदू रहा कहाँ ।
सजग होकर गणगौर देखिए ।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
11-7-2023 मंगलवार

99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
नित्य प्रार्थना
नित्य प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*Author प्रणय प्रभात*
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
माटी में है मां की ममता
माटी में है मां की ममता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दशमेश के ग्यारह वचन
दशमेश के ग्यारह वचन
Satish Srijan
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
Neelam Sharma
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
शेखर सिंह
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
खिलौनो से दूर तक
खिलौनो से दूर तक
Dr fauzia Naseem shad
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
आज एक अरसे बाद मेने किया हौसला है,
आज एक अरसे बाद मेने किया हौसला है,
Raazzz Kumar (Reyansh)
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
Loading...