Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

2321.पूर्णिका

2321.पूर्णिका
🌹कुछ लोग दिल में उतर जाते हैं 🌹
=====××=====××=====
कुछ लोग दिल में उतर जाते हैं ।
कुछ लोग दिल से उतर जाते हैं ।।
दुनिया कहे जुमला यही सबसे ।
सच पार दिल के उतर जाते हैं ।।
सुनते नहीं कुछ भी जहाँ देखो।
आवाज दिल की उतर जाते हैं ।।
राजा दिलों का राज करते हम ।
यूं शान दिल पर उतर जाते हैं ।।
हो आज खेदू जिंदगी नायब ।
बेरंग दिल भी उतर जाते हैं ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
26-5-2023शुक्रवार

1 Like · 464 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता
कविता
Shiva Awasthi
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
धर्म के नाम पे लोग यहां
धर्म के नाम पे लोग यहां
Mahesh Tiwari 'Ayan'
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मॉं : शत-शत प्रणाम*
*मॉं : शत-शत प्रणाम*
Ravi Prakash
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
क्षमा अपनापन करुणा।।
क्षमा अपनापन करुणा।।
Kaushal Kishor Bhatt
भूख सोने नहीं देती
भूख सोने नहीं देती
Shweta Soni
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
नेताम आर सी
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
प्रकृति - विकास (कविता) 11.06 .19 kaweeshwar
प्रकृति - विकास (कविता) 11.06 .19 kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
आप किसी के बनाए
आप किसी के बनाए
*प्रणय प्रभात*
Loading...