Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 1 min read

23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 बैरी मन मितान बनही कब🌷
22 2122 122
बैरी मन मितान बनही कब।
सुनता के खदान बनही कब।।
मर जाथे मरइया इहां तो ।
जिनगी बर निदान बनही कब ।।
ये चारेच दिन चंदईनी ।
सुघ्घर इहां जहान बनही कब ।।
दुनिया मा मया बांट तेहर ।
अइसन मन महान बनही कब।।
बगरे रोज अंजोर खेदू।
हितवा संग मचान बनही कब।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
18-10-2023बुधवार

101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
💐प्रेम कौतुक-279💐
💐प्रेम कौतुक-279💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
" दूरियां"
Pushpraj Anant
3244.*पूर्णिका*
3244.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#यादों_का_झरोखा
#यादों_का_झरोखा
*Author प्रणय प्रभात*
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
*गोलू चिड़िया और पिंकी (बाल कहानी)*
*गोलू चिड़िया और पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
Rj Anand Prajapati
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
"पतवार बन"
Dr. Kishan tandon kranti
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
शादाब रखेंगे
शादाब रखेंगे
Neelam Sharma
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
Loading...