Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2023 · 1 min read

23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 हमला का करें बर हे
22 212 22
हमला का करें बर हे।
सबला का करें बर हे।।
बिरथा नई जानन हम ।
दुनिया का करें बर हे ।।
गावत हाँस हाँस इहां ।
बाजा का करें बर हे ।।
करथे गोठ पुरखा के।
सुरता का करें बर हे।।
चिरहा पहनथे खेदू।
दरजी का करें बर हे।।
……..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
09-12-2023 शनिवार

118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2991.*पूर्णिका*
2991.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
💐प्रेम कौतुक-496💐
💐प्रेम कौतुक-496💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
चोट
चोट
आकांक्षा राय
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
नमी आंखे....
नमी आंखे....
Naushaba Suriya
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
Nilesh Premyogi
दिल कि गली
दिल कि गली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
surenderpal vaidya
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
??????...
??????...
शेखर सिंह
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
Loading...