Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 * नखरा लगावत रथे *🌷
2212 212
नखरा लगावत रथे ।
झगरा मतावत रथे ।।
ओखी बिकट हे इहां ।
जबरन झपावत रथे ।।
दुनिया हलाकान हे।
जिनगी बितावत रथे ।।
तीरथ बरथ का करय ।
मनखे सुनावत रथे ।।
अंजोर खेदू जिहां ।
रोज बगरावत रथे ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
04-11-2023शनिवार

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
Labour day
Labour day
अंजनीत निज्जर
आइए मोड़ें समय की धार को
आइए मोड़ें समय की धार को
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
sudhir kumar
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
"पर्सनल पूर्वाग्रह" के लँगोट
*Author प्रणय प्रभात*
हम तो मर गए होते मगर,
हम तो मर गए होते मगर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
समय के झूले पर
समय के झूले पर
पूर्वार्थ
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2467.पूर्णिका
2467.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बंदर का खेल!
बंदर का खेल!
कविता झा ‘गीत’
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
.
.
शेखर सिंह
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
Loading...